आरक्षण में दब रहा रोजगार, नौकरियों के अहम मुद्दे : वशिष्ठ गोयल

0

गुड़गांव (अजय) : नवजन चेतना मंच के संयोजक वशिष्ठ कुमार गोयल ने बोलते हुए कहा कि केंद्र सरकार के स्वर्ण आरक्षण के दाव में वह सभी मुद्दे दबाए जा रहे है जोकि केंद्र में बेठी सरकार ने पूर्व में सरकार बनने से पहले देश के लोगों से कही थी भाजपा सरकार ने कहा था कि हर साल 2 करोड़ नौकरियां देने की बातें कही थी वही रोजगार पर भी बड़ी बड़ी वायदे किये थे जिस पर अब सरकार खरी नही उतर रही है

गोयल ने कहा कि आरक्षण रोजगार देने की गारंटी नहीं है क्योंकि नौकरियां कम हो रही हैं। उन्होंने कहा, मान लीजिए कि आरक्षण दे दिया जाता है। लेकिन नौकरियां नहीं हैं। क्योंकि बैंक में आईटी के कारण नौकरियां कम हुई हैं। सरकारी भर्ती रुकी हुई है। नौकरियां कहां हैं?

उन्होंने कहा कि एक सोच कहती है कि गरीब-गरीब होता है, उसकी कोई जाति, पंथ या भाषा नहीं होती। उसका कोई भी धर्म हो, मुस्लिम, हिन्दू सभी समुदायों में एक धड़ा है जिसके पास पहनने के लिए कपड़े नहीं है, खाने के लिए भोजन नहीं है।’ उन्होंने कहा, ‘एक सोच यह कहती है कि हमें हर समुदाय के अति गरीब धड़े पर भी विचार करना चाहिए।’ साथ ही उन्होंने कहा कि एक सोच है जो चाहती है कि नीति बनाने वाले हर समुदाय के गरीबों पर विचार करे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here