देश में मेट्रो से कम किराएं पर जल्द होगा हवाई सफर

0

500 मीटर की उंचाई पर अब हवा में होगा सफर तय   

PBK News : दिल्ली हरियाणा के बिच अहम 70 किलोमीटर के सफर को सुगम व् आसन बनाने तथा राष्टीय राजमार्ग 8 दिल्ली जयपुर के ट्रेफिक दबाव को कम करने के लिए जल्द मेट्रो के किराए से भी कम की लागत में सरकार की तरफ से यात्रियों को हवाई सफर कराने की बड़ी तैयारी सरकार की तरफ से लगभग पूरी हो चुकी है जिसके लिए सरकार की तरफ से उचित कदम उठाते हुए करीब 4000 करोड़ रूपये की लागत से पोड टेक्सी मेट्रिनो प्रोजेक्ट शुरू किया जा रहा है जोकि रोपवे के तहत तार पर चलने वाली टेक्सी के माध्यम यात्रियों को उसकी मंजिल तक पहुँचाने का कार्य करेगी दिल्ली के धौलाकुआँ से मानेसर के बिच इस प्रोजेक्ट को शुरुआत में शुरू किया जाएगा जिसमे वातानुकूलित इस टेक्सी में एक बार में 5-7 यात्री बेठ कर सफर कर सकेगें इस प्रोजेक्ट की घोषणा काफी पहले केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी द्वारा काफी पहले की जा चुकी है जिसको अब जल्द पूरा करने की बाते सामने आ रही है

Loading...

कुछ माह पहले केन्द्रीय यातायात मंत्री नितिन गडगरी द्वारा इस कार्यक्रम के दौरान इस प्रोजेक्ट की घोषणा करते हुए अगले 2 महीने में कार्य शुरू करने की बातें कही थी उन्होंने कहा था कि इस प्रोजेक्ट की लागत में करीब 50 करोड़ रूपये प्रति किलोमीटर के हिसाब से खर्च आता है जोकि मेट्रों के प्रोजेक्ट से काफी कम होता है लेकिन इससे मेट्रिनो में सफर करने वाले यात्रियों के भाड़े से काफी कम में लोग मेट्रिनो की हवा में यात्रा करके काफी कम पेसे चुकाने होगें गडकरी ने बताया था कि इन रोपवे पॉडस को चलाने के लिए हमें 4 टेंडर मिले हैं। जिनके शुरु होने के फर्स्ट फेज में यह प्रोजेक्ट 70 किलोमीटर के रास्ते को जोड़ेगी। उन्होंने कहा था कि इस तरह से यह मेट्रो से सस्ता होगा, मेट्रो की शुरुआती फाइनेंसियल कॉस्ट 250 करोड़ रुपये /किलोमीटर के करीब है जबकि मेट्रिनो की शुरुआत लागत 50 करोड़ रूपये /किलोमीटर के करीब है

मेट्रो से कम किराया

केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने सभा में कहा था कि क्रांतिकारी यातायात के इस नए विकल्प के टिकट का किराया मेट्रो के टिकट से कम होगा. इस परियोजना में सरकार के मेक इन इंडिया पर कार्य करते हुए अहम भूमिका निभाएगी उन्होंने कहा कि राजधानी दिल्ली में यातायात के दबाव के कम करने के लिए रिंग रोड परियोजना अहम भूमिका निभाएगी और यातायात का दबाव आधा हो जाएगा. गडकरी ने कहा कि इसकी रिंग रोड परियोजना तय कर ली गई है

500 मीटर की उंचाई पर हवा में होगा सफर

दिल्ली गुडगाँव मानेसर के बिच चलने वाली इस पोड टेक्सी से लोगों को बड़ी राहत मिलती हुई दिखाई दे रही तो वही रोपवे पर चलने वाली पोड टेक्सी जमीन से करीब 500 मीटर की उंचाई पर अपना रास्ता तय करेगी जिससे यातियों को हवाई सफर का लुत्फ़ भी उठाने को मिलेगा

मेट्रिनो की विशेषताएं

प्राप्त जानकारी के अनुसार  मेट्रिनो एक ड्राइवरलेस टेक्सी होगी, जोकि पूरी तरह से रोपवे चलेगी। रोपवे प्रोजेक्ट इलेक्ट्रिसिटी से काम करता है, ड्राइवरलेस यह व्हीकल कंट्रोलरूम से कंट्रोल होगा और कुछ ही स्टेशनों पर रुकेगा। फुली ऑटोमैटिक ये पॉड्स नेटवर्क कंट्रोल रूम से कंट्रोल होंगे और वहीं से कमांड लेंगे। वही इस पोड टेक्सी में 5-7 लोग बैठ सकते हैं। इस प्रोजेक्ट के आने से 1 घंटे में ही करीब 7 हजार 500 लोग सफर कर सकेगें।

गुडगाँव में बनेगें 16 स्टेशन

रोपवे प्रोजेक्ट मेट्रिनो के शुरू होने पर गुडगाँव में इसके करीब 16 स्टेशन बनाये जाने का प्रस्ताव है जानकारी के अनुसार प्रोजेक्‍ट के तौर पर गुड़गांव दिल्‍ली बॉर्डर पर मौजूद एंबियंस मॉल से लेकर सोहना मोड़ तक 13 किलोमीटर में मेट्रीनो की शुरुआत होगी। इस पूरे रूट पर 16 स्‍टेशन बनाए जाएंगे।

60 किलोमीटर प्रतिघंटा होगी रफ्तार

दिल्ली गुडगाँव के बिच चलने वाली इस मेट्रिनो प्रोजेक्ट पर मेट्रिनो की स्पीड करीब 60 किमी. प्रति घंटा होगी। प्रोजेक्ट के अफसरों के अनुसार जल्द ही इस कार्य को जमीनी हकीकत देने के लिए जल्द ही कार्य शुरू किया जाने वाला है वही कॉन्‍ट्रेक्‍ट दिए जाने के एक साल के भीतर प्रोजेक्‍ट पर काम पूरा कर लिया जाएगा।

खबरें प्राप्त करने के लिए ई-मेल Subscribe करें  

 

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here